ये मुलाक़ात इक बहाना है….

ज़ूम मीटिंग शुरु हो गई है। कुछ लोग समय से पहले आ चुके हैं। कुछ लोग अभी भी आए जा रहे हैं। इस बीच जो आईं थीं वो थोड़ी देर के लिए चली गई हैं। मीटि…

डॉ रणदीप गुलेरिया- भारत के सबसे ख़ाली डॉक्टर का नाम जो दिन भर टीवी पर रहते हैं

सम्मानित डॉक्टर जन। हर बात में आहत हो जाएँगे तो कैसे चलेगा। डॉ गुलेरिया पर लिखा तो इसे लेकर भी आहत हो जा रहे हैं लोग। मैंने पोस्ट डिलिट…

काश कुणाल कामरा पर औरंगज़ेब की अवमानना का आरोप लगा होता

जब व्यंग्यकार का सर कलम करने का फैसला सुनाने से औरंगज़ेब भी कांप गया “उसे दंड देने से तुम्हारी पहले से और अधिक तौहीन होगी। हमारा वफ़ादार चा…

विदेश मंत्री भी गृह मंत्री की तरह ताली बजाने वाली भाषा बोलने लगे हैं

विदेश मंत्री की तरह नहीं किसी विधायक की तरह कुछ भी बोल देने जैसा जवाब है एस जयशंकर का “दुनिया के आत्मनियुक्त सरंक्षक को यह पचाना मुश्…

लड़खड़ाते कदमों से चल रही अर्थव्यवस्था नशेमन की निगाहों से मत देखिए जनाब

क्या 2021-22 भारत की जीडीपी वाकई 11 प्रतिशत की दर से बढ़ने जा रही है? 2020-21 का आर्थिक सर्वे यही कहता है।अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष IMF ने तो 11.5…

भारत के लोगों की कमाई घटी, खाना-ख़रीदना किया कम, और कमज़ोर होगी अर्थव्यवस्था

भारत के आम लोग कम खा रहे हैं। जो खा रहे हैं उसी में कटौती कर रहे हैं। खाने के लिए पैसे नहीं है तो जो बुढ़ापे के लिए बचाया था उसमें से निकाल कर खा रहे है…

कितना दिखते हैं विधायक जी, अब कम भी दिखा करें, काम करें काम करते हुए दिखा न करें।

जब दिखना ही सत्य का एकमात्र आधार हो जाए तो दिखने की अति होने लगती है और दिखना दिखावा जान पड़ने लगता है। झूठ लगने लगता है। अगर आप विधायक, सांसद और मं…

दर्द ए ट्रंप

अच्छे तमाम लोग थे,   अच्छा था ये जहां हम हो गए ख़राब क्यों, मत पूछिए जनाब मैं यूं ही शाम के वक्त व्हाइट हाउस से गुज़र रहा था। हंगामे के दो…